HegjeuesKe
MerÁe´ fuebkeÀ
 yeQEkeÀäe fJefôe³eceôe
 menkeÀejr yeQEkeÀäe
 cegêe
 fJeÊer³e mebmLeeSB
 fJeÊer³e yeeeej
 fJeosMer cegêe
 mejkeÀejr keÀejesyeej
 äewj- yeQEkeÀäe he³eõJesãeCe
 he´eLefcekeÀ J³eeheejr
 fJeMesøe keÀe³eõke´Àce
nesce >> ceemìj HefjHe°e - osKesb
 
बैंककारी वि‍नि‍यमन अधि‍नि‍यम, 1949 की धारा 23 - शाखा प्राधि‍करण के संबंध में मास्टर परि‍पत्र

आरबीआई/2014-15 / 77
बैंपवि‍वि‍. सं. बीएपीडी.बीसी. 7/22.01.001/2014-15

1 जुलाई 2014
10 आषाढ़ 1935(शक)

सभी वाणि‍ज्य बैंक
(क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों को छोड़कर)

महोदय

बैंककारी वि‍नि‍यमन अधि‍नि‍यम, 1949 की धारा 23 - शाखा प्राधि‍करण के संबंध में मास्टर परि‍पत्र

कृपया 1 जुलाई 2013 का मास्टर परि‍पत्र बैंपवि‍वि‍. सं. बीएपीडी. बीसी. 18/22.01.001/2013-14 देखें जि‍समें 30 जून 2013 तक बैंकों को शाखा प्राधि‍करण पर जारी अनुदेशों /दि‍शानि‍र्देशों को समेकि‍त कि‍या गया है। उपर्युक्त मास्टर परि‍पत्र को 30 जून 2014 तक जारी अनुदेशों को शामि‍ल करते हुए यथोचि‍त रूप से अद्यतन कर दि‍या गया है। संशोधि‍त मास्टर परि‍पत्र की प्रति संलग्न है। यह मास्टर परि‍पत्र भारतीय रि‍ज़र्व बैंक की वेबसाइट (http://www.rbi.org.in) पर भी उपलब्ध है।

2. वि‍देशी बैंक इस मास्टर परि‍पत्र के पैरा 3.3 से मार्गदर्शन प्राप्त करें।

भवदी

(लिली वडेरा)
मुख्य महाप्रबंधक

 
 
भारतीय रिज़र्व बैंक सभी अधिकार आरक्षित
आइई 5 और ऊपर के लिए 1024 x 768 रिजोल्यूशन में उत्कृष्ट अवलोकन